के गर्नु !

जनताको भविष्य सधैं दाउमा थापेर के गर्नु
मुलुक त बनाउन सकेनौ पार्टी सपारेर के गर्नु
देशको अखण्डता जोगाउन नसक्ने सरकारले
ख़ाली विदेशी अनुदान मात्र सकारेर के गर्नु !
आगो भएन के भो ?

आगो भएन के भो...

बूँद राना
चार ठोक्तक

चार ठोक्तक

नवराज न्याैपाने माैन
तीन ठोकान

तीन ठोकान

रुद्र ज्ञवाली
खलहरू जति थिए

खलहरू जति थिए

रमेश समर्थन
पाँच हाइकु

पाँच हाइकु

सीताराम नेपाल